लॉकडाउन में कोई न सोए भूखा, सामने आए फरिश्ते
March 30, 2020 • बाराबंकी टाइम्स

विजय द्विवेदी/प्रमोद मिश्र ’ श्रवस्ती

 

कोरोना वायरस से बचाव के लिए चल रहे लॉक डाउन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील रंग ला रही है। गरीबों, मजदूरों व असहाय लोगों के हरीश जायसवाल व सुरेश हमदर्द बन गए हैं। लॉक डाउन के नियमों का पालन करने के साथ प्रतिदिन भूखे परिवारों की भूख मिटा रहे हैं। पीएम के अपील को मानवहित के लिए वरदान करार देते हुए लोग 25 परिवारों को दोनो वक्त का भोजन उपलब्ध करा रहे हैं। यही नही एक-एक मीटर की दूरी पर लोगों को बैठाकर भोजन परोसा जाता है।

 

जमुनहा पूर्व माध्यमिक विद्यालय परिसर में सामाजिक कार्यकर्ता हरीश जायसवाल, संदीप जायसवाल, संतोष कुमार, राम कुमार शर्मा लोगों द्वारा जनता रसोई का संचालन किया जा रहा है। जनता रसोई का शुभारंभ जमुनहा एसडीएम आरपी चौधरी की ओर से शुक्रवार को किया गया। सामाजिक कार्यकर्ताओं की ओर से पका पकाया भोजन का पैकेट गरीब व असहाय परिवार तक पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। कोरोना वायरस को लेकर चल रहे लॉक डाउन के मद्देनजर गरीबों व असहाय लोगों की भूख मिटाने के लिए लोगों के सहयोग से इन लोगों ने जनता रसोई का संचालन शुरू किया है।

 

हरीश ने बताया कि करीब 25 परिवारों को प्रतिदिन भोजन मुहैया कराया जा रहा है। उन्होने बताया कि यह कार्य लगातार जारी रहेगा। इसी प्रकार नासिरगंज में स्थित सेठ प्रभु दास निरंजन कुमार मेमोरियल स्कूल के प्रबंधक सुरेश कुमार रिजवानी उर्फ बिट्टू भैया विद्यालय में रसोई का संचालन कर रहे हैं। विद्यालय में बिहार व उड़ीसा के 80 मजदूरों को भोजन का प्रबंध किया गया है। इसमें नासिरगंज पुलिस चौकी प्रभारी शंभूनाथ उपाध्याय की ओर से बराबर सहयोग किया जा रहा है। प्रबंधक ने बताया कि भट्ठों पर काम करने वाले जो अपने घर नहीं जा सके हैं, वह इसी विद्यालय में ठहरे हैं और उन्हें निश्शुल्क भोजन कराया जा रहा है। कोई बीमार न हो और कोई समस्या न हो इसका भी ध्यान रखा जा रहा है।

 

लॉकडाउन में पुलिस: वाह तो कहीं आह: कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए लॉकडाउन में पुलिस की भूमिका कहीं वाह तो कहीं आह कहने के लिए लोगों को विवश कर रही है। एक ओर गांव-गांव दौड़ रहे पुलिस वाहन भूख से तड़प रहे गरीब व मजूदर परिवारों के भोजन का इंतजाम करवा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर सड़क पर सख्ती से लॉकडाउन का पालन कराने में जुटे हैं। इस सख्ती में आवश्यक सेवा के लिए घर से निकलने वाले लोगों पर रौब झाड़ते हुए जवान जब अपशब्दों का प्रयोग करते हैं तो उन्हें अखर जाता है।

जमुनहा बाजार में जनता रसोई के भोजन के पैकेट को लेकर समाजसेवियों के साथ घर पर जाकर महिला को देते एसडीएम आरपी चौधरी