लाकडउन का आदेश हुआ तभी से निरंतर उमेश यादव हर रोज राजधानी लखनऊ के गरीब तबका के लोगों  को दे रहे भोजन
April 3, 2020 • बाराबंकी टाइम्स

कहते हैं कि भूखे को खाना खिलाना और प्यासे को पानी पिलाने से बड़ा काम कोई और नहीं होता , और इससे सभी धर्म मे एक जैसा ही बताया गया  फिर चाहे वह इस्लाम हो हिंदू हो बुद्ध हो या फिर कोई अन्य धर्म हो |उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक शख्स भूख और मुफलिस को झेल रहे लोगों के लिए किसी फरिश्ते से कम नहीं | है लखनऊ के उमेश यादव |जब से लाकडउन का आदेश हुआ तभी से निरंतर उमेश यादव हर रोज राजधानी लखनऊ के गरीब तबका के लोगों  के लिए भूखों को खाना खिलाने पहुंच जाते हैं| वह पैसे से अमीर तो नहीं लेकिन उनका दिल इतना बड़ा है कि इसे पूरी दुनिया समा जाए | भूख का कोई धर्म नहीं होता है भूख की कोई जात नहीं होती भूखे पेट को चाहिए केवल भोजन | उमेश कुमार  यादव ने यह मुहिम छोड़ी है कि वह किसी को भी भूखा सोने नहीं देंगे| शुरुआत में तो वह अपने घर से खुद ही खाना बनाकर गरीबों को खिलाते थे | उनके इस नेक काम को देखते हुए अब दूसरे लोगों का सहारा भी मिल रहा है |उमेश यादव हर रोज लगभग 150 से ज्यादा लोगों का पेट भरते हैं| टेढ़ी पुलिया जानकीपुरम विकासनगर खुर्रम नगर बहादुरपुर पॉलिटेक्निक इसके अलावा जनपद लखनऊ के कई अन्य क्षेत्रों में भी जाकर लोगों को भोजन वितरित करते हैं  जहां एक तरफ जनता कर्फ्यू ( लाकडउन) के नियमों का पालन करते हुए प्रशासन से मिली पोस्टर से जागरूक भी किया जा रहा |उन्होंने लोगों से लाक डाउन का पालन करने का आवाहन किया |उनके जिगर में मजदूरों की खिदमत का अटूट भाव है जो उन्हें हर दिन सैकड़ों लोगों को भरपेट खाना खिलाने की हिम्मत देता है|  राघवेंद्र सिंह यादव (बब्लू) प्रधान . पुष्पेंद्र सिंह .हेमंत कुमार मिश्र .उपेंद्र यादव. बलवीर सिंह यादव सहित पुलिस  की टीम भी उपस्थित रही