खुद के लिए ही जाल बुनती टीम इंडिया
November 5, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

21टी-20 मैच अब तक खेल चुके हैं भारत के युवा बल्लेबाज रिषभ पंत

अभिषेक त्रिपाठी ' नई दिल्ली

भारतीय चयनकर्ता 2015 विश्व कप के बाद से 2019 विश्व कप तक वनडे टीम के लिए चार नंबर का बल्लेबाज खोजते रहे और इस साल इंग्लैंड में हुए विश्व कप में उन्होंने मध्यक्रम में ऐसे खिलाड़ी उतारे जो टीम इंडिया की हार की वजह बने। टीम इंडिया को सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर बाहर होना पड़ा। वनडे विश्व कप के बाद से एमएसके प्रसाद के नेतृत्व वाली चयनसमिति, स्थायी कप्तान विराट कोहली और मुख्य कोच रवि शास्त्री ने मिलकर अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए युवा खिलाड़ियों को मौका देने का नया शिगूफा फेंका। इस शिगूफे के कारण टी-20 टीम से कलाई के स्पिनरों कुलदीप यादव और युजवेंद्रा सिंह चहल की सफलतम जोड़ी को भी बाहर कर दिया गया। किसी तरह चहल बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 टीम में वापसी करने में सफल रहे जबकि कुलदीप चोटिल हैं। चयनकर्ताओं, कोच और कप्तान ने इन दोनों को जो मानसिक आघात पहुंचाया है उससे इन्हें उबरने में समय लगेगा और इसका असर टीम इंडिया पर भी पड़ेगा।

अपने सबसे खराब दौर से गुजर रही नौवें नंबर की बांग्लादेशी टीम अगर रविार को अरुण जेटली स्टेडियम में टी-20 इतिहास में दुनिया की पांचवें नंबर की टीम इंडिया को हराने में सफल रही तो उसके पीछे उनकी टीम का अच्छा प्रदर्शन तो है ही, साथ ही इसमें भारत की भी रणनीतिक खामी है। ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है जब कोई टीम विश्व कप टीम बनाने के लिए अपनी बनी-बनाई टीम को बिगाड़ रही है। फिलहाल इस सीरीज में रोहित शर्मा कप्तान हैं और उन्हें जो टीम दी गई है उसमें से ही उन्हें बेहतर निकालना है। अब गुरुवार को राजकोट में दोनों टीमें फिर आमने-सामने होंगी। ऐसे में रोहित को नई रणनीति के साथ दूसरे टी-20 में उतरना होगा।

दूसरे टी-20 पर महा खतरा: भारत और बांग्लादेश के बीच दिल्ली में खेला गया पहला टी-20 मैच वायु प्रदूषण के कारण खतरे में था तो अब गुरुवार को राजकोट में होने वाले दूसरे टी-20 मैच पर महा खतरा मंडरा रहा है। महा नामक तूफान भारत के पश्चिम तट से दूर जा रहा था, लेकिन इसने करवट ली है और अब यह गुजरात तट की ओर बढ़ रहा है। अब राजकोट में होने वाले मैच से पहले, 6-7 नवंबर को पश्चिमी तट पर तूफान के आने का अंदेशा है, जिस कारण सौराष्ट्र तट पर मछुआरों के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया है। स्काइमेट वेदर के मुताबिक, तूफान के गुजरात तट तक आते-आते कमजोर होने की उम्मीद है। स्काइमेट के मुताबिक, 'यह दीव और पोरबंदर के बीच सात नवंबर को कम हो सकता है और उस समय हवा की स्पीड 80-90 किलोमीटर प्रति घंटे होगी।'

प्रदूषण के स्थान नहीं बदलने से बीसीबी अध्यक्ष नाराज: बांग्लादेश की क्रिकेट टीम को रविवार को दिल्ली में घातक प्रदूषण के बीच टी-20 मैच खिलाने पर बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के अध्यक्ष नजमुल हसन नाराज हैं। सोमवार को दिल्ली पहुंचे नजमुल ने कहा कि बीसीबी को यह अहसास नहीं था कि दिल्ली का प्रदूषण इस स्तर तक घातक हो चुका है। मुङो जैसे ही इसकी खबर लगी थी, तो मैंने बीसीसीआइ को मैच का स्थान बदलने के लिए कहा था लेकिन ऐसा नहीं किया गया। बीसीसीआइ अध्यक्ष ने पहले ही साफ किया था कि अब इतनी जल्दी मैच को किसी दूसरे स्थान पर आयोजित करना संभव नहीं होगा। सोमवार को दिल्ली पहुंचे नजमुल ने यहां के प्रदूषण को खुद से महसूस किया तो उन्होंने कहा कि मैं अपनी आंखों पर भरोसा नहीं कर पा रहा हूं। मैंने एयरपोर्ट के भीतर स्मॉग देखा था। यह ओस नहीं नहीं, यह स्मॉग (धुआं) था। सुबह जब मैं यहां पहुंचा, तब हालात और भी ज्यादा खराब थे। अब मुङो यहह देखकर लग रहा है कि क्या हम यहां खेल सकते थे? हम यहां कुछ भी नहीं देख पा रहे हैं और यही सच है। नजमुल ने कहा कि वे शुरुआत से ही कह रह थे कि वे अब स्थान नहीं बदल सकते।

नजदीकी टी-20 मैचों में हार के दर्द का सामना जितना मुश्फिकुर रहीम ने किया है उतना किसी ने नहीं किया और बांग्लादेश का यह पूर्व कप्तान पिछले मुश्किल दो हफ्तों को भुलाने के लिए क्रिकेट के मैच जीतने के लिए प्रतिबद्ध था। बेंगलुरु में 2016 में विश्व टी-20 मुकाबले में भारत के खिलाफ बांग्लादेश की एक रन की हार के दौरान टीम में शामिल रहे रहीम ने रविवार को यहां तीन मैचों की सीरीज के पहले मैच में नाबाद 60 रन की पारी खेलकर 149 रन के लक्ष्य का पीछा कर रही मेहमान टीम को जीत दिलाई। भारत पर बांग्लादेश की टी-20 में पहली जीत के बाद रहीम ने कहा, 'हमने भारत के खिलाफ काफी नजदीकी मैच खेले हैं, इसलिए हमने खुद से वादा किया कि अगली बार हमें खेल में इस तरह की स्थिति का सामना करना पड़ेगा तो हम हारना नहीं चाहेंगे।' रहीम ने कहा कि पिछले दो हफ्ते उनके 15 साल के करियर का सबसे मुश्किल समय रहा। उन्होंने कहा, 'बांग्लादेश से रवाना होने से पहले मैंने कहा कि अगर हम कुछ मैच जीत लेंगे तो सब कुछ पटरी पर आ सकता है। हमने ऐसा ही किया और हम इस फॉर्म को जारी रखने का प्रयास करेंगे। हमने भारत के खिलाफ पिछले दो मैचों से काफी कुछ सीखा और अंतिम ओवर तक गए। हमने इस पर चर्चा की कि हम इस स्थिति से कैसे पार पा सकते हैं। मैं रियाद (महमूदुल्लाह) से कह रहा था कि बड़े शॉट खेलने की जगह एक और दो रन लेकर मैच जीतते हैं। मुङो लगता है कि इस मैच और इस पूरी सीरीज में हमारे पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है इसलिए यह हमें अपनी क्षमता के अनुसार निडर हो कर क्रिकेट खेलने की स्वतंत्रता देता है।' रहीम ने इसे बांग्लादेश क्रिकेट के लिए शानदार लम्हा करार देते हुए कहा, 'इससे पहले हमने टी-20 प्रारूप में उनके खिलाफ जीत दर्ज नहीं की थी। हम अपने कुछ अहम खिलाड़ियों के बिना खेल रहे थे, लेकिन युवा खिलाड़ी जिस तरह एकजुट होकर खेले और गेंदबाजों ने इस विकेट पर जिस तरह की गेंदबाजी की, वह शानदार था।'