डाईसोसन सोशल वर्क सोसाइटी के साथ ग्रामीणों ने मनाया प्रवासी दिवस
September 29, 2020 • बाराबंकी टाइम्स राम गोपाल

मिहीपुरवा के सलारपुर में सोमवार को ग्रामीणों ने विश्व प्रवासी एवं शरणार्थी दिवस मनाया। जिसकी अध्यक्षता ग्राम प्रधान सलारपुर द्वारा की गई। डाईसोसन सोशल वर्क सोइटी 3 वर्षों से मानव तस्करी रोध (स्वरक्षा) कार्यक्रम का संचालन करितास इंडिया दिल्ली के सहयोग से कर रहा है। ग्राम प्रधान सलारपुर ने अपने संबोधन में बताया की पूरी दुनिया में हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर कोरोना के समय फंसे थे, जहां उन्हें कोविड-19 के संक्रमण का काफी खतरा था।
लेकिन सरकार के अथक प्रयास से प्रवासी वापस आए और उन्हें सरकारी योजनाओं के साथ जोड़कर आजीविका चलाने में मदद किया गया, यह दिवस उन लोगों के साहस, शक्ति, संकल्प के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है जिन्हें प्राप्त संघर्ष, आजिविका की चुनौतियों के कारण अपना घर छोड़कर बाहर जाने को मजबूर होना पड़ता है। साथ ही पक्षियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उनके संरक्षण के लिए जरूरी अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के महत्व के बारे में देश को जागरूक करना है।
इस बार का विश्व प्रवासी दिवस पर बात करते हुए सम्मान के साथ प्रवास पर जोर दिया गया। इस अवसर पर डाईसोसन सोशल वर्क सोसाइटी से अंकित मिश्रा ने बताया कि पलायन होना विकास के लिए जरूरी है, परंतु सुरक्षित पलायन को ही बढ़ावा देना चाहिए, साथ ही उन्होंने माइग्रेशन रजिस्टर के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जब भी कोई व्यक्ति बाहर काम करने जा रहा हो तो उनका कार्य स्थल का पूरा विवरण माइग्रेशन रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है, इस समय मानव तस्करी के खतरा को देखते हुए चपेट में आने वाले परिवारों का चिन्हीकरण एवं उनको आय जनक रोजगार एवं सरकारी योजना से जोड़ने के लिए बात बताया गया।
विभिन्न प्रकार के योजना जैसे मनरेगा, पेंशन, केसीसी, डेयरी केसीसी, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना अटल पेंशन योजना पर जानकारी दी गई।उपस्थित सभी लोगों ने तय किया की पंचायत के माध्यम से हर प्रकार के योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों तक पहुंचाने का कार्य होगा ,एवं प्रवासी परिवार जो दिक्कत में है उन्हें हर संभव मदद आपसी सामंजस्यता के साथ किया जाएगा।
इस अवसर पर ग्राम सभा सदस्य, ग्राम प्रधान, सहायक अध्यापक, सहायक अध्यापिका, सिलाई प्रशिक्षिका, व गांव के अनेक प्रवासी मजदूर उपस्थित रहे।
मिहीपुरवा के सलारपुर में सोमवार को ग्रामीणों ने विश्व प्रवासी एवं शरणार्थी दिवस मनाया। जिसकी अध्यक्षता ग्राम प्रधान सलारपुर द्वारा की गई। डाईसोसन सोशल वर्क सोइटी 3 वर्षों से मानव तस्करी रोध (स्वरक्षा) कार्यक्रम का संचालन करितास इंडिया दिल्ली के सहयोग से कर रहा है। ग्राम प्रधान सलारपुर ने अपने संबोधन में बताया की पूरी दुनिया में हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर कोरोना के समय फंसे थे, जहां उन्हें कोविड-19 के संक्रमण का काफी खतरा था।
लेकिन सरकार के अथक प्रयास से प्रवासी वापस आए और उन्हें सरकारी योजनाओं के साथ जोड़कर आजीविका चलाने में मदद किया गया, यह दिवस उन लोगों के साहस, शक्ति, संकल्प के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है जिन्हें प्राप्त संघर्ष, आजिविका की चुनौतियों के कारण अपना घर छोड़कर बाहर जाने को मजबूर होना पड़ता है। साथ ही पक्षियों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उनके संरक्षण के लिए जरूरी अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के महत्व के बारे में देश को जागरूक करना है।
इस बार का विश्व प्रवासी दिवस पर बात करते हुए सम्मान के साथ प्रवास पर जोर दिया गया। इस अवसर पर डाईसोसन सोशल वर्क सोसाइटी से अंकित मिश्रा ने बताया कि पलायन होना विकास के लिए जरूरी है, परंतु सुरक्षित पलायन को ही बढ़ावा देना चाहिए, साथ ही उन्होंने माइग्रेशन रजिस्टर के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जब भी कोई व्यक्ति बाहर काम करने जा रहा हो तो उनका कार्य स्थल का पूरा विवरण माइग्रेशन रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है, इस समय मानव तस्करी के खतरा को देखते हुए चपेट में आने वाले परिवारों का चिन्हीकरण एवं उनको आय जनक रोजगार एवं सरकारी योजना से जोड़ने के लिए बात बताया गया।
विभिन्न प्रकार के योजना जैसे मनरेगा, पेंशन, केसीसी, डेयरी केसीसी, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना अटल पेंशन योजना पर जानकारी दी गई।उपस्थित सभी लोगों ने तय किया की पंचायत के माध्यम से हर प्रकार के योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों तक पहुंचाने का कार्य होगा ,एवं प्रवासी परिवार जो दिक्कत में है उन्हें हर संभव मदद आपसी सामंजस्यता के साथ किया जाएगा।
इस अवसर पर ग्राम सभा सदस्य, ग्राम प्रधान, सहायक अध्यापक, सहायक अध्यापिका, सिलाई प्रशिक्षिका, व गांव के अनेक प्रवासी मजदूर उपस्थित रहे।