चोरों के गैंग लीडर सहित दो इनामी गिरफ्तार शिवम हत्याकांड में दो नामजद पकड़े गए
November 17, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

बाराबंकी : लोनीकटरा पुलिस ने कई माह से फरार चल रहे दो शातिर चोरों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए दोनों आरोपितों पर बीस-बीस हजार रुपये का पुरस्कार घोषित था। तीन चोरों के गिरोह पर गैंगेस्टर का मुकदमा दर्ज किया गया था। गिरफ्तार दोनों में एक गैंग का लीडर है। जबकि तीसरा सदस्य पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर के आदेश पर जिले में आपराधियों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत प्रभारी निरीक्षक लोनीकटरा नित्यानन्द सिंह को गैंगेस्टर मुकदमे के दो वांछितों की सूचना मिली। जिस सूचना के आधार पर शनिवार सुबह मंझूपुर मोड़ पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों में अजय कुमार और रंजीत वर्मा निवासी बड़वल शामिल हैं। निरीक्षक के साथ एसएसआइ सतीश कुमार सिंह, एसआइ अर¨वद, रामजी सिंह, जब्बार अहमद और सिपाही अजय कुमार, मंदीप मौर्या, अजय प्रताप भी शामिल थे। एसपी ने बताया कि आरोपित शातिर किस्म के चोर हैं। इनका एक सदस्य राजेंद्र उर्फ राजू पहले से जेल में निरूद्ध है। रंजीत इस गिरोह का सरगना है जिस पर चार मुकदमे दर्ज हैं और अजय पर भी चार मुकदमे दर्ज हैं।

 

संवादसूत्र, कोठी (बाराबंकी): खेत में लौकी के पौधों का मलबा डालने को लेकर हुई मौसेरे भाई की हत्या के मामले में पुलिस ने नामजद दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। वहीं पीएम के बाद शव को पुलिस बल के साथ गांव लाया गया। जहां पुलिस की उपस्थिति में ही शव का अंतिम संस्कार किया गया।

कोठी थाना क्षेत्र के ग्राम अतरौली में 15 नवंबर की शाम अतरौली निवासी सुशील कुमार का पुत्र शिवम (14) खेत की जोताई कर रहा था। खेत में लगे लौकी के पौधों को उखाड़कर मौसेरे भाई सोनू पुत्र इंद्रेश के खेत में डाल दिए था। जिसको लेकर दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। सोनू के साथ उसके रिश्तेदार प्रताप ने शिवम पर धारदार हथियार से गर्दन पर वार कर दिए। सुशील ने पुत्र शिवम को बचाने की कोशिश की तो उन पर भी बांके से हमलाकर दिया। जिसमें शिवम की मृत्यु हो गई थी। मृतक के बड़े भाई विजय कुमार की तहरीर पर पुलिस ने प्रेमा पत्नी इंद्रेश, सोनू पुत्र इंद्रेश व प्रताप के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए ताबड़तोड़ दबिश दी और सोनू व प्रताप को भानमऊ-जैदपुर मार्ग पर स्थित नहर पुलिया से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त बांका भी बरामद कर लिया। गिरफ्तार आरोपितों को न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। वहीं शनिवार को शव पुलिस बल के बीच गांव लाया गया और अंतिम संस्कार कराया गया। हालांकि तीसरी नामजद प्रेमा देवी की गिरफ्तारी अभी नहीं हो सकी है। कोठी कोतवाल सुधीर कुमार सिंह का कहना है कि दो आरोपित जेल भेजे जा चुके हैं। तीसरे आरोपित की तलाश चल रही है।

 

पुलिस हिरासत में इनामी बदमाश ' जागरण