भारतीय पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की हुई जासूसी
November 1, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

जाब्यू, नई दिल्ली : फेसबुक के स्वामित्व वाली इंस्टैंट मैसेजिंग कंपनी वाट्सएप ने गुरुवार को कहा कि इजरायली स्पाइवेयर 'पेगासस' के जरिए अनाम इकाइयों ने भारतीय पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी की। वैश्विक स्तर पर करीब 1,400 उपयोगकर्ताओं की जासूसी की गई है। केंद्र सरकार ने वाट्सएप से जवाब मांगा है।

वाट्सएप ने यह नहीं बताया है कि किसके के कहने पर पत्रकारों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के फोन हैक किए गए। कंपनी ने यह भी नहीं बताया है कि भारत में इस स्पाइवेयर हमले से कितने पत्रकार और कार्यकर्ता प्रभावित हुए। लेकिन उसके प्रवक्ता ने कहा कि इस सप्ताह हमने जिन लोगों से संपर्क किया है उनमें भारतीय उपयोगकर्ता भी शामिल हैं। वाट्सएप ने कहा है कि मई में उसे ऐसे अत्याधुनिक साइबर हमले का पता चला।

'>>वाट्सएप ने राज खोला इजरायली स्पाइवेयर 'पेगासस' ने की जासूसी

'>>वाट्सएप ने कहा, कंपनी को मई में इसके बारे में चला था पता

'>>दुनियाभर में कुल 1400 यूजर्स की हुई जासूसी

'>>सरकार ने मैसेजिंग एप कंपनी से चार नवंबर तक मांगा जवाब

सैन फ्रांसिस्को : माइक्रो ब्लॉ¨गग साइट ट्विटर ने अगले महीने से अपने प्लेटफार्म पर राजनीतिक विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाने का एलान किया है। यह प्रतिबंध पूरे विश्व में प्रभावी रहेगा। कंपनी के सीईओ जैक डॉरसी की फैसले के लिए विपक्षी डेमोक्रैट्स की वाहवाही कर रहे हैं, जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की त्योरियां चढ़ गई हैं। दूसरी ओर, फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग राजनीतिक विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाने से स्पष्ट रूप से इन्कार कर दिया है। 15

ट्विटर पर राजनीतिक विज्ञापन बंद, फेसबुक पर रहेंगे जारी

प्रसाद ने कहा, सरकार निजता की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध

इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि सरकार अपने नागरिकों की निजता की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि सरकार भारतीय नागरिकों की निजता के हनन को लेकर चिंतित है और वाट्सएप से पूछा गया है कि ऐसा क्यों और कैसे हुआ और वह भारतीय नागरिकों की निजता की सुरक्षा के लिए क्या कदम उठा रही है। प्रसाद ने कहा है कि किसी भी तरह की निगरानी के लिए सुरक्षा एजेंसियां एक निश्चित प्रोटोकॉल का पालन करती हैं। यह कदम केवल राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मामलों में ही उठाया जाता है।

यूजरों को दी थी जानकारी

कंपनी ने कहा है कि उसने लगभग 1,400 उपयोगकर्ता को विशेष संदेश भेजकर इसकी जानकारी दी है। बता दें कि दुनियाभर में वाट्सएप के लगभग 1.5 अरब यूजर हैं। इनमें भारत के करीब 40 करोड़ लोग शामिल हैं।

इजरायली कंपनी पर ठोका मुकदमा

वाट्सएप ने कहा है कि इस साइबर हमले के लिए उसने इजरायली निगरानी फर्म एनएसओ ग्रुप पर मंगलवार को कैलिफोर्निया की अदालत में मुकदमा दर्ज कराया है। इसी कंपनी की मदद से अज्ञात इकाइयों ने इनमें राजनयिक, राजनीतिक विरोधी, पत्रकार और वरिष्ठ अधिकारियों की जासूसी की।

इजरायली कंपनी ने आरोप नकारे

इजरायल की कंपनी एनएसओ ग्रुप ने अज्ञात इकाइयों को तकनीकी मुहैया कराने के आरोपों को खारिज किया है। उसका कहना है कि वह आतंकवाद और गंभीर अपराध से निपटने के लिए सिर्फ लाइसेंस वाली सरकारी खुफिया एजेंसियों को ही अपनी तकनीक उपलब्ध कराती है।

इलस्ट्रेशन: गायत्री