आज पूरी होगी सिखों की 72 सालों की अरदास
November 9, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

मोदी आज करेंगे करतारपुर कॉरिडोर के पैसेंजर टर्मिनल का उद्घाटन

 गुरदासपुर

पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के लिए शनिवार को जब भारत से श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना होगा, तो 72 सालों से की जा रही सिखों की अरदास पूरी हो जाएगी। श्री गुरु नानक देव जी से जुड़े गुरुधाम के दर्शन कर उनकी आंखें निहाल हो सकेंगी। उनकी यह अरदास 550वें प्रकाश पर्व पर सुन ली गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को जब गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक में बनाए गए कॉरिडोर के पैसेंजर टर्मिनल का उद्घाटन करेंगे। वहीं, पाकिस्तान के हिस्से वाले कॉरिडोर का उद्घाटन पाकिस्तान के पीएम इमरान खान करेंगे। यह तमाम सिखों और नानक नाम लेवा के लिए ऐतिहासिक पल होगा। क्योंकि पिछले 72 वर्षो से श्रद्धालु दूरबीन से गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन कर रहे थे, लेकिन अब वे कॉरिडोर के माध्यम से गुरुद्वारा साहिब जाकर वहां नतमस्तक हो सकेंगे।

1947 में भारत-पाक बंटवारे के बाद श्री ननकाना साहिब, श्री पंजा साहिब और श्री करतारपुर साहिब जैसे कई ऐतिहासिक गुरुद्वारे पाकिस्तान में रह गए। इससे सिखों के लिए इनके दर्शन करना दुर्लभ हो गया। ऐसे में नितनेम के बाद सुबह-शाम की जाती अरदास में सिख पंथ ने इन पंक्तियों को जोड़ा। इनमें कहा गया है- 'श्री ननकाना साहिब ते होर गुरुद्वारेयां, गुरुधामां दे, जिनां तों पंथ नूं विछोड़या गया है, खुले दर्शन दीदार ते सेवा संभाल दा दान खालसा जी नूं बख्शो।' इसका मतलब है- श्री ननकाना साहिब और बाकी गुरुद्वारे या गुरुधाम जो बंटवारे के चलते पाकिस्तान में रह गए उनके खुले दर्शन सिख कर सकें, यह प्रार्थना है। हर साल केवल तीन-चार मौकों पर ही दो-चार हजार लोगों को पाक जाने की इजाजत थी।

पाक ने पल-पल की पैंतरेबाजी

पाकिस्तान शुरू से ही कॉरिडोर को लेकर पैंतरेबाजी करता रहा है। पाक पीएम इमरान खान ने पहले प्रति श्रद्धालु 20 डॉलर फीस न लेने की बात कही थी, लेकिन अब पाक फिर से फीस लेने पर अड़ गया है। पाक सेना पासपोर्ट को अनिवार्य बता रही है, जबकि इमरान ने कहा यह जरूरी नहीं है। वहीं, करतारपुर में पाक ने बोर्ड लगाए हैं कि भारत ने 1971 के युद्ध में इस गुरुद्वारे को बम से गिराने की कोशिश की थी। दूसरी ओर पाक की ओर से जारी एक वीडियो में जरनैल सिंह भिंडरावाला की फोटो भी दिखाई गई। कॉरिडोर के नींव पत्थर समारोह में खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला को भी शामिल किया गया था।

बारिश ने बिगाड़ी व्यवस्था, सरकार की रैली रद

गुरुवार रात को हुई भारी बारिश ने डेरा बाबा नानक और सुल्तानपुर लोधी में सारी व्यवस्था बगाड़ दी है। बटाला रोड पर बने बीएसएफ मुख्यालय के प्रांगण व सुल्तानपुर लोधी में बनाई गईं तीनों टेंट सिटी में जलभराव हो गया है। यहां अभी तक किसी के ठहरने की व्यवस्था नहीं हो पाई है। रात तक प्रशासन पानी निकालने में लगा रहा। ऐसे में डेरा बाबा नानक में पंजाब सरकार ने अपनी रैली रद कर दी है।