25 फीसद बिना लाइसेंस चला रहे वाहन
November 14, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

बाराबंकी : यातायात के प्रति जागरूक करने के लिए चलाए जाने वाले अभियान भी वाहन चालकों को सीख देने में बेअसर रहे हैं। इसकी बानगी जिले में खासी संख्या में वाहन चालकों का बिना ड्राइ¨वग लाइसेंस (डीएल) होना दे रहा है। वैसे तो हर वाहन चलाने वाले के पास डीएल होना जरूरी है, लेकिन यहां कुल पंजीकृत वाहनों के सापेक्ष 25 फीसद लोग बिना डीएल हैं। परिवहन विभाग की ओर से नए नियम लागू होने और जुर्माना राशि ज्यादा होने के चलते अब डीएल बनवाने के लिए संभागीय परिवहन कार्यालय (एआरटीओ) के बाहर न सिर्फ लंबी कतारें लग रही हैं बल्कि तीन-तीन की वेटिंग भी चल रही है। ऐसे में हेलमेट, सीट बेल्ट और अन्य नियमों की बात करना भी बेमानी होगा। जिले में तीन लाख 21 हजार पंजीकृत वाहनों के सापेक्ष महज दो लाख 54 हजार 300 लाइसेंस धारक हैं। इनमें दोपहिया, चार पहिया और कार्मिशयल लाइसेंस धारक भी शामिल हैं। कुल वाहनों की संख्या से ही 66 हजार 700 लाइसेंस धारक कम हैं। ऐसा तब है परिवहन विभाग प्रतिमाह औसतन 200 लोगों पर बिना लाइसेंस पकड़े जाने पर कार्रवाई करने का दावा कर रहा है।

लाइसेंस के लिए काट रहे चक्कर : हैदरगढ़ के बीजापुर गांव निवासी विरेंद्र कुमार बुधवार को अपना लाइसेंस बनवाने एआरटीओ कार्यालय आए थे। उन्होंने बताया कि तीन माह बाद की डेट मिली है। ऑनलाइन से सुविधा तो मिली, लेकिन देर बहुत लग रही है। सतरिख थाना क्षेत्र निवासी मोहम्मद जुबेर ने बताया कि अभी तक वह बिना लाइसेंस के ही वाहन चला रहे थे। सख्ती बढ़ने के बाद लाइसेंस बनवा रहे हैं।

एआरटीओ कार्यालय में ड्राइविंग लाईसेंस बनवाने के लिए लगी भीड़ ' जागरण

सख्ती के बाद एआरटीओ में ड्राइ¨वग लाइसेंस बनवाने को लग रही भीड़

बिना लाइसेंस के अपना वाहन चलाते पाए जाने पर पांच हजार रुपये का और दूसरे का वाहन चलाते समय पकड़े जाने पर ढाई हजार रुपये जुर्माने का प्रावधान है। बिना डीएल वाहन चलाने वालों पर सख्ती के चलते अब इसको लेकर जागरूक हुए हैं।

पंकज सिंह, एआरटीओ, प्रशासन

फैक्ट फाइल

पंजीकृत वाहन 3,21,000

कुल वयस्क 22, 31,146

लाइसेंस धारक 2,54,300

2019 में हुए चालान 2997

2018 में अब तक हुए चालान 1850

प्रतिदिन लर्निंग लाइसेंस 120

प्रतिदिन परमानेंट लाइसेंस 65

जिले में बालिग लोग 22 लाख