पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस पर निकाली खीझ, वाघा में रोकी ट्रेन
August 9, 2019 • बाराबंकी टाइम्स

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली : अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद बौखलाया पाकिस्तान नासमझ कदम उठा रहा है। दोनों देशों के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस को अटारी तक लाने के बजाय वाघा में ही रोक दिया। पाकिस्तान का कहना था कि भारत जाने में उसके चालक दल की सुरक्षा को खतरा हो सकता है। नतीजतन, भारत को इंजन के साथ अपना चालक दल भेज कर लाहौर से आने वाली ट्रेन को अटारी तक लाना और दिल्ली से जाने वाली ट्रेन को वाघा तक छोड़ना पड़ा। वहीं अपने यहां भारतीय फिल्मों या अन्य किसी भारतीय सामग्री के प्रदर्शन पर भी रोक लगा दी है।

उत्तर रेलवे के मुख्य जन संपर्क अधिकारी दीपक कुमार के मुताबिक पाकिस्तान से भारत आने वाली समझौता एक्सप्रेस में 110 यात्री, जबकि भारत से पाकिस्तान जाने वाली समझौता एक्सप्रेस में 70 यात्री सवार थे। कुमार का कहना था कि पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस का संचालन बंद नहीं किया है। बल्कि उसकी तरफ से अपने चालक दल की सुरक्षा को लेकर कुछ चिंताएं जताई गई थीं। जिस पर हमने उनसे कहा है कि भारत में स्थिति बिलकुल सामान्य है और सुरक्षा की कोई समस्या नहीं है। भारत की तरफ से समझौता एक्सप्रेस का संचालन बंद नहीं किया गया है। फिर भी हमने उधर की ट्रेन को वाघा से अटारी लाने और इधर की ट्रेन को अटारी से वाघा पहुंचाने के इंतजाम कर दिए।

समझौता ट्रेन के संचालन की प्रक्रिया समझाते हुए कुमार ने कहा दोनों तरफ की ट्रेनें अटारी पहुंचती हैं। लाहौर से आने वाली ट्रेन के यात्री अटारी में ट्रेन से उतर कर भारतीय ट्रेन में बैठते हैं। इसी प्रकार दिल्ली से जाने वाली समझौता के यात्री उतरकर पाकिस्तान से आने वाली ट्रेन में बैठते हैं और फिर वो ट्रेन वापस वाघा होते हुए लाहौर पहुंचती है। अटारी से वाघा की दूरी लगभग तीन किलोमीटर, जबकि लाहौर की दूरी लगभग 26.6 किलोमीटर है और इसमें छह स्टेशन पड़ते हैं। अटारी अमृतसर से 25 किमी है।

समझौता एक्सप्रेस की शुरुआत नाम के अनुरूप 1971 के युद्ध के बाद दोनों देशों के बीच हुए शिमला समझौते के तहत 22 जुलाई, 1976 को हुई थी। पहले ये अमृतसर से लाहौर के बीच रोजाना चलती थी। परंतु अस्सी के दशक में पंजाब में आतंकवाद के कारण भारत सरकार ने इसे सिर्फ अटारी तक चलाने का निर्णय लिया। 1994 में इसे सिर्फ दो बार चलाने का फैसला हुआ।

इस वर्ष इससे पहले 28 फरवरी से 4 मार्च के बीच भी समझौता एक्सप्रेस का संचालन पुलवामा हमले के कारण रोका गया था। भारत और पाकिस्तान के बीच जब-जब भी संबंधों में खटास आती है, उसका असर समझौता के संचालन पर पड़ता है। गुरुवार सुबह पाकिस्तान के रेलमंत्री शेख राशिद खान ने इस्लामाबाद में पत्रकारों से कहा कि भारत के साथ समझौता एक्सप्रेस सेवा बंद कर दी गई है। भारतीय रेल के अधिकारियों ने इसका खंडन किया। हालांकि भारतीय विदेश मंत्रलय की ओर से इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया गया।

संबंधित सामग्री 17

 

गुरुवार को अमृतसर के अटारी श्याम सिंह रेलवे स्टेशन पर खड़ी समझौता एक्सप्रेस ' प्रेट्र

'>>भारतीय चालक वाघा से अटारी लाया ट्रेन

 

'>>दिल्ली से गई ट्रेन को भी भारतीय चालक दल ने ही अटारी से वाघा छोड़ा

हाय तौबा न मचाए पाकिस्तान राजनयिक संबंध बनाए रखे: भारत

 

जाब्यू, नई दिल्ली : अनुच्छेद 370 हटाने के बाद राजनयिक दर्जे को घटाने और भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित करने के पाकिस्तान सरकार के फैसले पर प्रतिक्रिया जताते हुए भारत ने पड़ोसी देश से आग्रह किया है कि वह सामान्य राजनयिक संवाद बनाये रखने के लिए अपने फैसले पर पुनर्विचार करे। हालांकि भारत सरकार ने फिर स्पष्ट किया है कि यह पूरी तरह से उसका आतंरिक फैसला है।

अनुच्छेद 370 रद करने को चुनौती देने वाली याचिका पर जल्द सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इन्कार

 

नई दिल्ली : अनुच्छेद 370 को रद करने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर तुरंत सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इन्कार कर दिया। याचिका में मामला संयुक्त राष्ट्र ले जाए जाने की आशंका जताए जाने पर कोर्ट ने कहा-'अगर वे मामला संयुक्त राष्ट्र में ले जाएंगे तो क्या संयुक्त राष्ट्र भारत सरकार के संवैधानिक संशोधन पर रोक लगा सकता है'। विस्तृत खबर 17

गुलाम नबी आजाद को श्रीनगर एयरपोर्ट पर रोका

 

श्रीनगर : हालात का जायजा लेने जम्मू-कश्मीर जा रहे राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता और के प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद को श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही पुलिस ने रोक लिया और वापस दिल्ली भेज दिया। 17